मध्यान्ह भोजन में अंडा दे या न दें यह तय करेंगे पालक: ऐसे तय होगा मध्यान्ह भोजन का मेन्यू

मध्यान्ह भोजन में अंडा दे या न दें यह तय करेंगे पालक: ऐसे तय होगा मध्यान्ह भोजन का मेन्यू

Durg

दुर्ग। छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्कूलों में संचालित मध्यान्ह भोजन के मेन्यू के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं। आदेशानुसार आगामी दो सप्ताह के भीतर शाला विकास प्रबंधन समिति एवं पालकों की शाला स्तर पर बैठक आयोजित की जाएगी। बैठक में पालक मध्यान्ह भोजन का मेन्यू तय करेंगे।
बैठक के दौरान ऐसे छात्र-छात्राओं का चिन्हांकन किया जाएगा, जो मध्यान्ह भोजन में अण्डा नहीं खाना चाहते हैं। मध्यान्ह भोजन तैयार करने के पश्चात् अलग से अण्डे उबालने अथवा पकाने की व्यवस्था की जाएगी। ऐसे छात्र-छात्राएं जो मध्यान्ह भोजन में अण्डा ग्रहण नहीं करना चाहता उन्हें अगल से पंक्ति में बैठाकर मध्यान्ह भोजन परोसा जाएगा। जिन शालाओं में अण्डा वितरण किया जाना हो, वहां शाकाहारी छात्र-छात्राओं के लिए अन्य प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे सुगंधित सोया दूध, सुगंधित मिल्क, प्रोटीन क्रंच, फोर्टिफाइड बिस्किट, फोर्टिफाईट सोयाबड़ी, सोया मूंगफली चिकी, सोया पापड़, फोर्टिफाइड दाल विकल्प के रूप में व्यवस्था की जाएगी।
दो दिन अंडा देने का जारी हुआ था आदेश
उल्लेखनीय है कि पूर्व में प्रोटीन एवं कैलोरी की पूर्ति हेतु मध्यान्ह भोजन के साथ सप्ताह में कम से कम 2 दिन अण्डा, दूध समतुल्य न्यूट्रिशन खाद्य पदार्थ दिए जाने के आदेश जारी किए गए थे। उक्त जारी आदेश में संशोधन करते हुए विभाग द्वारा शाला विकास प्रबंधन समिति एवं पालकों की बैठक में मध्यान्ह भोजन का मेन्यू निर्धारित करने कहा गया है। यदि पालकों की बैठक में मध्यान्ह भोजन में अण्डा दिए जाने के लिए आम सहमति नहीं बनती तो ऐसे स्कूलों में मध्यान्ह भोजन में अण्डा न देकर इसका पूरक आहार देने की व्यवस्था शाला विकास समिति द्वारा की जाएगी।

Share this: