छत्तीसगढ़ के इस शहर में प्लास्टिक के बदले मिलेगा नाश्ता और खाना: जाने क्या है योजना

छत्तीसगढ़ के इस शहर में प्लास्टिक के बदले मिलेगा नाश्ता और खाना: जाने क्या है योजना

Sarguja

स्वच्छ भारत अभियान के तहत नगर निगम ने बनाई योजना

अंबिकापुर। स्वच्छता के मामले में देश भर में दूसरे सबसे स्वच्छ शहर का दर्जा पाने वाले अंबिकापुर में एक नई पहल की जा रही है। प्लास्टिक मुक्त करने के लिए यहां नगर निगम द्वारा नई योजना बनाई गई है। प्लास्टिक के पुन: प्रयोग के लिए छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में देश का पहला गार्बेज कैफे की योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत कोई भी सड़क पर बिखरे हुए एक किलो प्लास्टिक कैरी बैग लाएगा तो उसे मुफ्त भोजन कराया जाएगा और आधा किलो प्लास्टिक कैरी बैग लाने पर भरपेट नाश्ता कराया जाएगा।
सोमवार को पेश किए गए नगर निगम के नए बजट में इस योजना के लिए साढ़े पांच लाख रुपए का प्रावधान किया गया है। जबकि अगर जरुरत महसूस होगी तो इस योजना के लिए जनप्रतिनिधियों से मदद ली जाएगी। मेयर डॉ. अजय तिर्की ने बताया कि गार्बेज कैफे के तहत इस अभियान को शुरू करने वाला अंबिकापुर देश का पहला शहर होगा। उन्होंने बताया कि अब तक किसी भी नगर निगम में यह व्यवस्था नहीं है। एक आंकड़ों के मुताबिक अंबिकापुर में 100 से ज्यादा घुमंतु लोग हैं। इस अभियान के तहत नगर निगम शहर के गरीब और घुमंतु लोगों को मुफ्त में भोजन कराएगा। इस योजना को स्वच्छता अभियान से जोड़ा जा रहा है। बता दें कि अंबिकापुर स्वच्छता अभियान में देश में दूसरे नंबर पर है।

Share this: