जिला चिकित्सालय डायलिसिस पर: विधायक वोरा ने स्वास्थ्य मंत्री से कही यह बात

जिला चिकित्सालय डायलिसिस पर: विधायक वोरा ने स्वास्थ्य मंत्री से कही यह बात

Durg

दुर्ग। जिले का 500 बिस्तरों वाला सबसे बड़ा शासकीय अस्पताल अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। शहर को डेंगू मुक्त करने के लिए सारे अधिकारी आम जनता के लाखों रुपए खर्च कर जागरूकता अभियान, दवाई वितरण एवं बैठकों की फोटो खींच कर प्रचार प्रसार कर रहे हैं। वहीं जिला चिकित्सालय में भारी गंदगी एवं अव्यवस्था का आलम है। इलाज करवाने पहुंचे पीडि़त एवं उनके रिश्तेदारों के लिए सुलभ, पीने के पानी, रुकने आदि की कोई व्यवस्था नहीं है। अस्पताल की व्यवस्था का निरीक्षण करने पहुंचे स्थानीय विधायक अरुण वोरा ने कहा स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने अस्पताल का दौरा करना चाहिए।
विधायक वोरा ने कहा कि नवीन बने जच्चा बच्चा अस्पताल को भी प्रशासनिक अकर्मण्यता ने सफेद हाथी बना लिया है। साफ सफाई में भारी लापरवाही को देखते हुए उन्होंने नाराजगी जताई एवं निगम आयुक्त तत्काल दवा छिड़काव के निर्देश दिए एवं कलेक्टर को अस्पताल की दुर्गति से अवगत करवाते हुए कहा कि जिला चिकित्सालय खुद डाइलिसिस पर नजऱ आ रहा है ऐसी स्थिति में लोग ठीक होने की जगह और बीमार होने के खतरे के बीच अस्पताल में पहुंच रहे हैं। जचकी वार्ड की स्थिति अत्यंत खराब है जिसका स्वयं निरीक्षण करें एवं जजकी वार्ड को एक हफ्ते के अंदर नई बिल्डिंग में शिफ्ट करवाने की कवायद पूरी करें एवं अस्पताल परिसर में स्थित जर्जर पानी टंकी की मरम्मत का कार्य तत्काल प्रारम्भ कराया जाए। उन्होंने कहा कि विस् सत्र के दौरान स्वास्थ्य मंत्री को भी अस्पताल के निरीक्षण के लिए बुलाया जाएगा।
अस्पताल में मौजूद मरीजों के परिजनों ने विधायक को बताया कि गंभीर मरीजों के लिए वेंटिलेटर मशीन बंद है, नालियां खुली हुई हैं, मेडिसिन आई सी यू ठप्प पड़ी है, एन्टी रेबीज वैक्सीन की भी कमी है, अस्पताल की छत पर भरे पानी में डेंगू के लार्वा पनपने का खतरा है। अस्पताल निरीक्षण के दौरान वरिष्ठ पार्षद अब्दुल गनी, राजेश शर्मा, शकुन ढीमर, कन्या ढीमर, अंशुल पांडेय, कुणाल तिवारी एवं सिविल सर्जन के के जैन, अरुण पवार, मनीष यादव मौजूद थे।

Share this: