तालपुरी हत्याकांड का आरोपी राउरकेला में गिरफ्तार: पति ने ही की थी हत्या, पहचान छिपाने जलाए शव

तालपुरी हत्याकांड का आरोपी राउरकेला में गिरफ्तार: पति ने ही की थी हत्या, पहचान छिपाने जलाए शव

Twin City

भिलाई। तालपुरी हत्याकांड में पुलिस को सफलता मिल गई है। आरोपी को गिरफ्तार करने दुर्ग पुलिस ने ऐसा जाल बिछाया जिसमें वह फंस गया। दरअसल हत्या के बाद पुलिस को पहला शक मृतका के पति रवि शर्मा पर ही था। पुलिस का शक भी सही निकला। दुर्ग पुलिस ने आरोपी को पकडऩे जीआरपी राउरकेला की मदद ली। राउरकेला रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से आरोपी रवि शर्मा को गिरफ्तार किया गया। फिलहाल पुलिस की एक टीम राउरकेला पहुंच चुकी है और आज शाम तक आरोपी को भिलाई लेकर पहुंच जाएगी।

बता दें कि मंगलवार की सुबह पुलिस ने इंटरनेशनल कॉलोनी तालपुरी स्थित एक मकान से एक युवती का शव युवक के साथ बरामद किया था। उनके पास एक डेढ़ वर्ष के मासूम का शव भी बरामद हुआ था। इस मकान में पेशे से कारपेंटर रवि शर्मा अपनी पत्नी मंजू शर्मा तथा डेढ़ वर्ष की निशाा के साथ रह रहा था। शव मिलने के बाद पुलिस को प्रारंभिक जांच में उसके पति पर शक था।

आरोपी को पकडऩे पुलिस ने ऐसे बिछाया जाल

हत्या के बाद सबसे पहले मृतका के मोबाइल से ही उसकी मां को फोन कर बताया था कि अपनी बेटी को बचा लो वह जल रही है। इसके बाद पुलिस ने मोबाइल का लोकेशन ट्रेस किया तो अल सुबह उसका लोकेशन रायपुर मिला। इस आधार पर पुलिस को इस बात का अंदाजा हो गया था कि आरोपी भागने की फिराक में है और इस समय किसी ट्रेन में है। इसके बाद पुलिस ने सुबह जाने वाली ट्रेनों की जानकारी ली और राउरकेला जीआरपी से संपर्क कर रवि शर्मा की फोटो भेज दी। राउरकेला में जीआरपी ने घेराबंदी कर ट्रेनों की सघनता से जांच की और रवि शर्मा को दबोच लिया।

चरित्र पर था संदेह इसलिए की हत्या

पुलिस की प्रारंभिक जांच में जो बातें सामने आई हैं उसमें सबसे अहम बात यह है कि आरोपित रवि शर्मा अपनी पत्नी के चरित्र पर संदेह करता था। जांच के दौरान कमरे में मिली शराब की बोतल को लेकर पुलिस का अंदाजा है कि रविशर्मा ने अज्ञात पुरुष को पहले शराब पिलाई और इसके बाद हत्या की। वह इतना अधिक गुस्से में था कि उसे पुरुष के प्राइवेट पार्ट के पास आग लगाई। वहीं महिला की मौत को लेकर पुलिस का कहना है कि संभवत: टेप चिपके होने के कारण दम घुटने से उसकी मौत हुई है।

खुद को मृत साबित करने आजपाए कई पैंतरे

आरोपित रवि शर्मा ने वारदात को अंजाम देने के बाद खुद को मृत साबित करने कई पैंतरे आजमाए। शव को जलाने सिलेंडर व गैस चूल्हा कमरे में ले गया। आरोपी ने अंदाजा लगाया कि गैस सिलेंडर ब्लास्ट होगा तो शव किसी की पहचान में नहीं आएगा। वहीं आरोपित रवि शर्मा ने दरवाजे पर अपने आप को संजय देवांगन कहते हुए मैसेज लिखा। इसमें उसने लिखा कि मंजू के बारे में बहुत कुछ बताना है। मंजू धोखेबाज है वह चार पांच लोगों को धोखा दे चुकी है। मुझसे कहा शर्मा को मार दो तो मैने शर्मा को मार दिया। उसने मेरा फोटो खींच लिया था इसलिए उसे भी मार दिया। मंजू के साथ उसके घर वाले भी मिले हुए है। अभी उसकी बहनों को भी मारना है। महेश के साथ मिलकर इन लोगों ने मेरे भाई को मारा है। इस तरह आरोपित ने खुद को संजय बताते हुए बचने का तरीका निकाला लेकिन इसमें सफल नहीं हो सका।

Share this: