तैयार हो रहा दुनिया के सबसे बड़ा स्टेडियम, इन टीमों के बीच होगी पहली जंग, लागत 700 करोड़

तैयार हो रहा दुनिया के सबसे बड़ा स्टेडियम, इन टीमों के बीच होगी पहली जंग, लागत 700 करोड़

National

गुजरात। दुनिया का सबसे बड़ा स्टेडियम गुजरात के अहमदाबाद में बन रहा है जो अगले साल मार्च के अंत तक तैयार होने की उम्मीद है। कोलकाता के ईडन गार्डंस में ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट मैच के आयोजन में अहम भूमिका निभाने के बाद बीसीसीआई के नवनियुक्त अध्यक्ष सौरव गांगुली अब एक और ऐतिहासिक कदम उठाने जा रहे हैं। सौरव गांगुली ने अब अहमदाबाद में बन रहे इस स्टेडियम में पहला मुकाबला एशिया एकादश और वल्र्ड इलेवन के बीच कराने के लिए कमर कस ली है। अगर सब सही रहा तो अगले साल क्रिकेट प्रशंसकों को ये सौगात मिल सकती है।

गांगुली ने कहा-आईसीसी की अनुमति का इंतजार

दरअसल, जब इस बारे में बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली से पूछा गया तो उन्होंने साफ कर दिया कि इस बारे में आईसीसी की अनुमति का इंतजार किया जा रहा है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, वल्र्ड इलेवन और एशिया इलेवन के बीच संभावित मुकाबले में दुनियाभर के स्टार खिलाडिय़ों के शामिल होने की उम्मीद है। बीसीसीआई और गुजरात क्रिकेट संघ ने इस आयोजन को भव्य बनाने के लिए तैयारी शुरू कर दी हैं। माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस स्टेडियम का उद्घाटन करेंगे। अहमदाबाद के सरदार पटेल स्टेडियम को 700 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जा रहा है। इस स्टेडियम की दर्शक क्षमता 1.10 लाख होगी। ऐसे में ये दुनिया का सबसे बड़ा स्टेडियम होगा। इसका निर्माण जनवरी 2017 में शुरू हुआ था।

76 कॉरपोरेट बॉक्स, 4 ड्रेसिंग रूम और 3 प्रैक्टिस ग्राउंड

सरदार पटेल स्टेडियम की आर्किटेक्ट कंपनी भी वही है जिसने ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड का डिजाइन तैयार किया था। ऑस्ट्रेलिया की कंपनी पॉप्यूलस ही मोटेरा स्टेडियम के लिए काम कर रही है। 64 एकड़ में फैले इस ग्राउंड की दर्शक क्षमता 1,100,000 होगी जो एमसीजी के मुकाबले करीब 10 हजार ज्यादा है। इस स्टेडियम में 76 कॉरपोरेट बॉक्स, चार ड्रेसिंग रूम के अलावा तीन प्रैक्टिस ग्राउंड भी होंगे। इसके अलावा इंडोर क्रिकेट एकेडमी और ओलिंपिक के मानक के अनुसार स्वीमिंग पूल, स्क्वैश एरिया और टेबल टेनिस एरिया भी होगा।

फ्लड लाइट्स नहीं, रुश्वष्ठ का होगा इस्तेमाल

स्टेडियम में एक 3ष्ठ थिएटर की व्यवस्था भी की गई है। मोटेरा स्टेडियम में फ्लड लाइट की जगह एलईडी लाइट लगवाईं जाएंगी। सोलर पैनल के अलावा 65 रैन वाटर हर्वेस्टिंग पिट्स भी बनाए गए हैं। वहीं दर्शकों की सहूलियत के लिए 300 मीटर की दूरी पर ही मेट्रो स्टेशन भी बनाया जाएगा। सरदार पटेल स्टेडियम से पहले यहां बने मोटेरा स्टेडियम की दर्शक क्षमता 54 हजार थी।

मोटेरा स्टेडियम इसलिए रहेगा याद

मोटेरा स्टेडियम का निर्माण साल 1982 में किया गया था जिसकी दर्शक क्षमता मात्र 54 हजार थी। इस मैदान पर कई बड़े रिकॉर्ड कायम किए गए और भारत ने बड़ी जीत हासिल की। सुनील गावस्कर ने इसी मैदान पर साल 1987 में 10 हजार रन बनाने का रिकॉर्ड कायम किया था। पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव ने इसी मैदान पर 434वां विकेट लेकर रिचर्ड हेडली को पछाड़ा था। वहीं साल 1999 में सचिन तेंदुलकर ने इसी मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला दोहरा शतक लगाया था। साल 2011 में हुए वल्र्ड कप में भारत ने मोटेरा स्टेडियम में ही क्वार्टरफाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को मात दी थी। इस मैदान पर पहला मैच भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेला गया था।

Share this: