10 लाख करोड़ के मार्केट कैप वाली देश की पहली कंपनी बनी रिलायंस इंडस्ट्रीज

विश्व की टॉप छह तेल उत्पादक कंपनियों के क्लब में शामिल हुई रिलायंस इंडस्ट्रीज

National

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड विश्व की टॉप छह तेल उत्पादक कंपनियों के क्लब में शामिल हो गई है। कंपनी ने बीपी पीएलसी को पछाड़ते हुए यह उपलब्धि हासिल की है। रिलायंस का बाजार पूंजीकरण मंगलवार को ही 9.50 लाख करोड़ रुपये (13300 करोड़ डॉलर) के पार चली गई थी।
बीपी पीएलसी का बाजार पूंजीकरण 13200 करोड़ डॉलर के करीब है। रिलायंस के शेयरों में लगभग तीन गुना ज्यादा का इजाफा सेंसेक्स के मुुकाबले देखने को मिला है। इससे पहले कंपनी ने अगस्त में आम वार्षिक सभा (एजीएम) में घोषणा की थी, कि वो अगले 18 महीनों में अपनी देनदारी को शून्य कर देगी।

यह कंपनियां हैं टॉप-6 में शामिल

ब्लूमबर्ग के अनुसार एक्सॉन मोबिल कॉर्प पहले स्थान पर है। जबकि सउदी अरामको दूसरे स्थान पर मौजूद है। अरामको अपना आईपीओ भी लाने वाली है, जिसको विश्व का सबसे बड़ा आईपीओ माना जा रहा है।

सऊदी अरामको को बेचेगी हिस्सेदारी

कंपनी अपनी कुछ हिस्सेदारी को सऊदी अरामको को बेचने जा रही है। शेयरों में बढ़ोतरी से मुकेश अंबानी की नेट वर्थ में भी इजाफा देखने को मिला और वो एशिया के सबसे अमीर शख्स बन गए हैं। उन्होंने अलीबाबा समूह के संस्थापक जैक मा को पीछे छोड़ दिया है।

जल्द बनेगी पहली 200 अरब डॉलर की कंपनी

रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) अपने न्यू कॉमर्स उपक्रम और फिक्स्ड ब्रॉडबैंड कारोबार के दम पर 24 महीनों में 200 अरब डॉलर (14 लाख करोड़ रुपये) से ज्यादा बाजार पूंजी वाली कंपनी बन सकती है। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने एक रिपोर्ट में यह बात कहीथी।
ब्रोकरेज हाउस ने कहा कि आरआईएल को एमपीओएस (मोबाइल प्वाइंट ऑफ सेल) की पेशकश के द्वारा असंगठित खुदरा बाजार में किराना कारोबारियों को मजबूत बनाने, माइक्रोसॉफ्ट के साथ एसएमई एंटरप्राइजेज क्षेत्र में प्रवेश, जियो के फाइबर ब्रॉडबैंड कारोबार और विज्ञापन जैसी डिजिटल पहलों का फायदा मिलेगा।

Share this: