गुटबाजी और नेताओं की तनातनी ने बढ़ाई दावेदारों की टेंशन !

पद एक, दावेदार अनेक… किसे मिलेगा महापौर बनने का मौका ?

Durg
  • साल के अंत में दुर्ग नगर निगम में होने हैं चुनाव
  • अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली से पुराने दिग्गजों में जगी बड़ी उम्मीद

दुर्ग। नगर निगम दुर्ग में साल के अंत में होने वाले चुनाव के लिए अभी से दावेदार सक्रिय हो गये हैं। माननीयों के बंगलों तक दौड़ के साथ ही भावी पार्षदों को अपने पाले में करने का गणित शुरू हो गया है। कांग्रेस सरकार द्वारा महापौर चयन के लिए लागू किये गये अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली से इस बार कई दिग्गजों में भी उम्मीद की किरण जगी है, जो पहले केवल पार्षदी तक ही सीमित रह चुके थे। वहीं कुछ ऐसे दिग्गज भी दावेदारों की भीड़ में शामिल हैं जो इस पद के असल हकदार साबित हो सकते हैं।

अगर बात कांग्रेस की करें तो फिलहाल यहां 6-7 ऐसे दावेदार सामने आए हैं, जिन्हें महापौर बनने का मौका पार्टी दे सकती है। दुर्ग क्षेत्र में हमेशा से वोरा परिवार का ही दबदबा रहा है। पार्टी के राष्ट्रीय स्तर के दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा की पसंद हमेशा ही पार्टी के जीत का पैगाम लेकर आई है। ऐसे में यह बात लाजिमी है कि महापौर व पार्षद टिकट वितरण में इनकी पसंद सर्वोपरि रहेगी। साथ ही साथ गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू की रजामंदी का भी ध्यान रखा जाएगा।

महापौर चयन के लिए इन बातों का रखा जाएगा विशेष ध्यान
पार्टी सूत्रों की मानें तो यहां महापौर चयन के लिए वोरा परिवार की पसंद के साथ ही कुछ खास बातों का ध्यान रखा जाएगा। पार्टी का इस बात पर विशेष जोर है कि महापौर प्रत्याशी संगठन की रीति नीति के अनुरूप ही कार्य करे। इसके अलावा सबको साथ लेकर आगे बढ़ने को प्राथमिकता दे। प्रत्याशी को क्षेत्र में कार्य करने का अनुभव हो और विकास को लेकर खुद का विजन हो।

इन दिग्गजों का खेला जा सकता है दांव

मदन जैन- दावेदारों की लिस्ट में सबसे वरिष्ठ औऱ अनुभवी चेहरा पूर्व पार्षद मदन जैन का है। शहर के प्रतिष्ठित व्यापारियों में से एक श्री जैन पूर्व में महापौर पद के लिए चुनाव लड़ चुके हैं। हालांकि उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था। बावजूद इसके ये हार कभी भी उनकी राजनीतिक करियर की कमजोर कड़ी साबित नहीं हुई। वोरा परिवार के विश्वसनीय लोगों में शामिल जैन महापौर पद के लिए सबसे सशक्त दावेदार माने जा रहे हैं

संगीता वाघेला – दावेदारों की सूची में एकमात्र महिला संगीता वाघेला का नाम शामिल है। संगीता वाघेला शहर कांग्रेस कमेटी की सदस्य होने के साथ ही पार्टी की सक्रिय कार्यकर्ता हैं। पिछले निगम चुनाव में दावेदारों में शामिल संगीता वाघेला हमेशा ही पार्टी की गतिविधियों में सक्रिय रहकर वरिष्ठ नेताओं की गुडलिस्ट में शामिल रही हैं। माना जा रहा है कि महिला उम्मीदवार को कमान देने के निर्णय पर इनके नाम पर सहमति बन सकती है।

राजकुमार नारायणी- वर्तमान सभापति राजकुमार नारायणी पर भी पार्टी दांव खेल सकती है। सभापति होने के नाते नारायणी पर कांग्रेस पार्षद दल में हमेशा दबदबा रहा है। विधायक अरूण वोरा के विश्वासपात्र लोगों में शामिल नारायणी का नाम पिछले चुनाव के बाद से महापौर के तौर पर दबी जबान में सामने आता रहा है। साथ ही साथी पार्षदों द्वारा भी इनके नाम का किसी प्रकार से कोई विरोध सामने नहीं आया है। ऐसे में अन्य विकल्पों की संभावना पर नारायणी के नाम को प्राथमिकता दी जा सकती है।

अब्दुल गनी – विधायक अरूण वोरा के खास अब्दुल गनी , निगम में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभा चुके हैं। विपक्ष के रूप में सत्तापक्ष को हमेशा कटघरे में खड़े करने वाले गनी खान की दुर्ग क्षेत्र में अच्छी पकड़ मानी जाती है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से भी उन्हें हमेशा गुड मार्क्स मिलते रहे हैं। दावेदारों की सूची में शामिल होने के साथ ही अल्पसंख्यक चेहरा होने के नाते इन्हें भी मौका दिया जा सकता है।

Share this: