मंडल चुनाव को लेकर भिलाई जिला भाजपाईयों का फूटा गुस्सा: बैठक में दिग्गजों ने जताया विरोध: जाने भाजपा की बैठक में किसने क्या कहा…

मंडल चुनाव को लेकर भिलाई जिला भाजपाईयों का फूटा गुस्सा: बैठक में दिग्गजों ने जताया विरोध: जाने भाजपा की बैठक में किसने क्या कहा…

Twin City

भिलाई। भाजपा भिलाई जिला के मंडल चुनाव को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं में असंतोष चरम पर पहुंच गया है। चुनाव के खिलाफ आज महाराणा प्रताप भवन सेक्टर-7 में सैकड़ों की संख्या में पहुंचे भाजपा कार्यकर्ताओं ने अपना विरोध जताया। इस मौके पर दुर्ग लोकसभा सांसद विजय बघेल, पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय, वैशाली नगर विधायक विद्यारतन भसीन, पूर्व मंत्री रमशीला साहू, भिलाई चरोदा महापौर चंद्रकांता मांडले सहित भाजप भिलाई के पूर्व अध्यक्षों व अन्य पदाधिकारियों सहित सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

बैठक के दौरान सांसद विजय बघेल ने अपनी बात शुरू की तो साफ झलक रहा था कि मंडल चुनाव में अनदेखी किए जाने से कितनी पीड़ा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी एक अनुशासित पार्टी है लेकिन इसे विखंडित करने का प्रयास हमारे बीच के लोग ही कर रहे हैं। विधानसभा चुनाव की हार के बाद लोकसभा चुनाव में जिन कार्यकर्ताओं ने उत्साह पूर्वक कार्य करते हुए बड़ी जीत दिलाइ उन कार्यकर्ताओं की अनदेखी कर एक बंद कमरे में संगठन का चुनाव किया जाना पूरी तरह से गलत है। एक घर से चुनाव का संचालन कर कार्यकर्ताओं की भावनाओं को आहत किया गया। सांसद विजय बघेल ने कहा कि एक सांसद होने के नाते इस मुद्दे को राष्ट्रीय चुनाव समिति तक ले जाएंगे।

भूत पीछे पड़ जाए ता आसानी से नहीं छोड़ते

बैठक के दौरान पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने मंडल चुनाव के प्रति नाराजगी जताते हुए वर्तमान व भूतकाल की बात की। उन्होंने कहा कि यहां अधिकतर भूतपूर्व ही बैठे हुए हैं और यदि भूत पीछे पड़ जाए तो आसानी से नहीं छोड़ता। उन्होंने इशारों ही इशारों में जिले के एक कद्दावर नेता को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि दूर्भाग्यपूर्ण है कि आज हम एक ऐसे प्रसंग पर चर्चा के लिए जमा हुए हैं जिससे हजारों कार्यकर्ताओं की भावनाएं आहत हुई हैं। मंडल चुनाव संचालन पर सवाल उठाते हुए पूर्व मंत्री ने कहा कि चुनाव को लेकर जिला अध्यक्ष को बोलने का अधिकार नहीं है। हमारे प्रधानमंत्री पूरे देश को अपना परिवार कहते हैं वहीं यहां पर एक परिवार अपनी मनमानी कर रहा है। कांग्रेस राष्ट्रवादी सोच के खिलाफ चलती है और यहां भी ऐसा ही कुत्सित प्रयास किया जा रहा है। पूर्व मंत्री ने कहा कि चुनाव संचालन की एक प्रक्रिया होती है। मंडल चुनाव से पूर्व वार्ड समिति के चुनाव होते हैं। इसके लिए वार्डवार मतादताओं की सूची लगाई जाती है। विधिवत चुनाव अधिकारी द्वारा तिथि निर्धारण के बाद तमाम प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है। इसके बाद ही चुनाव होते हैं। घर के बंद कमरे से मंडल अध्यक्षों की घोषणा किस प्रक्रिया के तहत हुई है यह सभी के सामने आना चाहिए। पूर्व मंत्री ने तमाम कार्यकर्ताओं से कहा कि वे अपने अपने क्षेत्र में फीडबैक लें ताकि पता चले कि कितने लोगों को इसके बारे में जानकारी थी।

फर्जी है मंडल अध्यक्षों का चुनाव

बैठक के दौरान वैशाली विद्यारतन भसीन ने तो मंडल चुनाव को फर्जी घोषित कर दिया। उन्होंने कहा कि मंडल चुनाव जिस प्रकार हुए उससे कार्यकर्ताओं में आक्रोश है। उन्होंने कहा कि जो चुनाव हुए हैं वे पूरी तरह से फर्जी हैं। चुनाव में किसी भी तरह की प्रक्रियाओं का पालन नहीं किया गया। इस पूरे चुनाव प्रक्रिया की जांच होनी चाहिए और इस चुनाव को रद्द किया जाना चाहिए। बैठक के दौरान पूर्व मंत्री रमशीला साहू ने भी चुनाव प्रकिया का विरोध करते हुए चुनाव रद्द किए जाने की मांग की।

Share this: