बीएसपी में बने हाईग्रेड प्लेट का इस्तेमाल भारतीय नौसेना में: इस खास किस्म की प्लेटों की है मांग

बीएसपी में बने हाईग्रेड प्लेट का इस्तेमाल भारतीय नौसेना में: इस खास किस्म की प्लेटों की है मांग

Twin City

भिलाई। बीएसपी ने एक और महत्वपूर्ण योगदान देने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए भारतीय नौसेना द्वारा उपयोग के लिए उच्च शक्ति वाले युद्धपोत ग्रेड प्लेटों का उत्पादन किया है। हालांकि बीएसपी ने कई दशकों से शिप बिल्डिंग गे्रड प्लेटों का उत्पादन करता आ रहा है, जिसमें यूरोपियन शिप बिल्डिंग इण्डस्ट्री को निर्यात की गई प्लेंटे भी शामिल हैं। भारतीय नौसेना के लिए संयंत्र डीएमआर 249 ए युद्धपोत गे्रड प्लेटों का निर्माण करती रही है, जिसमें देश में बनाए गये प्रथम स्वदेशी विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत और छोटे युद्धपोतों के अन्य वर्ग जैसे एंटी-सबमेरिन युद्धपोत, आईएनएस किलतन, आईएनएस कमोर्ता, आईएनएस कदमत भी शामिल हैं। इस तरह के विशिष्ट प्लेटों का आयात पहले रूस से किया जाता था।
उल्लेखनीय है कि बीएसपी ने भारतीय रेलवे हेतु डेम, पुलों और गगनचुंबी इमारतों के लिए इस्पात और इस्पात के सर्वोत्तम और वांछित ग्रेड प्रदान करने और रक्षा, ऊर्जा क्षेत्र, अंतरिक्ष आविष्कार आदि में राष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण और क्रिटिकल परियोजनाओं हेतु स्टील प्रदान कर गौरवान्वित हुआ है। इसी दिशा में बीएसपी ने विशिष्ट इस्पात केटेगरी में आक्रामक तरीके से उत्पाद विकास की रणनीति के तहत नए गे्रड का विकास कर रहा है। जिससे सेल-बीएसपी प्रतिस्पर्धा के युग में मजबूती के साथ अपनी स्थिति बनाए रखने में सक्षम हो रहा है और साथ ही भारत सरकार के विनिर्माण और मेक इन इंडिया के लिए जोर के साथ आयात प्रतिस्थापन में भी दृढ़ता के साथ कदम बढ़ा रहा है।
25,000 टन से अधिक ए गे्रड प्लेट की आपूर्ति
भारतीय नौसेना ने युद्धपोतों के अपने बेड़े के विस्तार का एक समृद्ध कार्यक्रम शुरू किया है। बीएसपी ने अब तक 25,000 टन से अधिक डीएमआर 249 ए गे्रड प्लेंट मजगन डॉक लिमिटेड, गार्डन रीच शिप बिल्डर्स एंड इंजीनियर्स तथा कोचिन शिपयार्ड इत्यादि को आपूर्ति की है। वर्ष 2017-18 में बीएसपी ने 2263 टन एवं 2018-19 में 2387 टन डीएमआर 249 ए गे्रड प्लेट की आपूर्ति की है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में नौसेना की आवश्यकताओं को पूरा करने हेतु बीएसपी ने अब तक लगभग 1800 टन इस विशिष्ट ग्रेड प्लेट की आपूर्ति की है। बीएसपी के अलावा सेल के राउरकेला इस्पात संयंत्र ने भी अलग मोटाई के डीएमआर 249 ए गे्रड प्लेट कीे आपूर्ति की है। भारतीय नौसेना के विस्तारीकरण और आधुनिकीकरण के तहत पनडुब्बियों का भी निर्माण किया जा रहा है। डीएमआर 249 ए गे्रड प्लेट का उपयोग इन पनडुब्बियों के निर्माण में किया जा रहा है। ऐसे ही एक आधुनिकतम पनडुब्बी, आईएनएस खंडेरी जिसका निर्माण मजगन डॉक लिमिटेड में किया गया है, जिसे इसी माह के अंत तक कमिशन किया जाना प्रस्तावित है। ज्ञात हो कि आईआरएस प्रमाणीकरण मिलने के पश्चात् बीएसपी द्वारा नौसेना के इस्तेमाल के लिए हिन्दुस्तान शिपयार्ड में निर्माण किए जा रहे डाइविंग सपोर्ट वेसेल हेतु विशिष्ट गे्रड के प्लेट की आपूर्ति इस वर्ष किया जा रहा है।

Share this: