घर बैठे मिल सकता था लाइसेंस फिर भी लगे लाइन में ... बाद में अधिकारियों से समझी पूरी प्रक्रिया

घर बैठे मिल सकता था लाइसेंस फिर भी लगे लाइन में … बाद में अधिकारियों से समझी पूरी प्रक्रिया

Raipur

रायपुर। जिले के परिवहन विभाग के दफ्तर में आज कुछ अलग ही नजारा देखने को मिला जब बिना किसी तामझाम के प्रदेश के परिवहन मंत्री मो. अकबर यहां अपना लाइसेंस नवीनीकरण कराने पहुंचे। विभाग के मंत्री होने के चलते उन्हें घर बैठे आसानी से मिल सकने वाले लाइसेंस के लिए उनका दफ्तर पहुंचना और फिर लाइन में खड़े रहकर सारी प्रक्रियाओं में शामिल होने की चर्चा आज दिनभर रही।

दरअसल परिवहन विभाग इन दिनों बायोमीट्रिक लाइसेंस बना रहा है। चूंकि मो.अकबर का लाइसेंस पुराना हो चुका था, लिहाजा वह चिप वाले लाइसेंस के लिए परिवहन विभाग के कार्यालय पहुंचे थे। आमतौर पर मंत्री की ऐसी तस्वीरों के बीच मीडिया का तामझाम भी मौजूद होता है, लेकिन ना तो इस बारे में किसी को खबर दी गई और ना ही लोगों को खबर लगी। वहां मौजूद कुछ चुनिंदा लोगों ने मंत्री की यह तस्वीर निकाली है। परिवहन मंत्री मो.अकबर ने चिप लाइसेंस के लिए डिजिटल दस्तखत किए, रेटिना स्कैन कराया और थंब इंप्रेशन भी दिया। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान उन्होंने वहां मौजूद आम नागरिकों की सुविधा में किसी तरह की दिक्कत ना हो, इस बात भी बखूबी ध्यान रखा। इस दौरान मो. अकबर ने लाइसेंस बनाने की तमाम प्रक्रियाओं को अधिकारियों से समझा।

Share this: