तखतपुर में बनेगा गल्र्स कॉलेज व शुरू होगा राजस्व कार्यालय: जाने तखतपुर में सीएम की बड़ी घोषणाएं

तखतपुर में बनेगा गल्र्स कॉलेज व शुरू होगा राजस्व कार्यालय: जाने तखतपुर में सीएम की बड़ी घोषणाएं

Bilaspur

बिलासपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज बिलासपुर जिले के तखतपुर में आयोजित तीजा मिलन समारोह में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने समारोह में स्थानीय नागरिकों की मांग पर अनेक महत्वपूर्ण घोषणाएं की। उन्होंने तखतपुर में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व का कार्यालय प्रारंभ करने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में कहा कि तखतपुर में शासकीय कन्या महाविद्यालय और सकरी में शासकीय महाविद्यालय प्रारंभ करने की मांग को पूरा करने के लिए अगले बजट में प्रावधान किया जाएगा। उन्होंने तखतपुर महाविद्यालय में दुग्ध डेयरी उत्पाद संबंधी पाठ्यक्रम प्रारंभ कराने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने तीज मिलन समारोह में कहा कि तखतपुर नगर पालिका को परीक्षण कर अग्निशमन वाहन उपलब्ध कराया जाएगा। समारोह में गृह एवं लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू, तखतपुर विधायक रश्मि आशीष सिंह, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा, कमिश्नर बिलासपुर बीएल बंजारे सहित बड़ी संख्या में महिलाएं, अनेक जनप्रतिनिधि और नागरिक बड़ी संख्या में उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने महिलाओं को तीजा की बधाई देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ का यह एक प्रमुख त्यौहार है। तीजा मनाने महिलाएं अपने मायके आती हैं। राज्य सरकार द्वारा अपनी संस्कृति और परंपरा के संरक्षण और संवर्धन की पहल की गई है। छत्तीसगढ़ के गौरव के प्रतीकों को स्थापित करने के लिए राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ के प्रमुख त्यौहारों को प्रोत्साहित करने की पहल की है। जिसके तहत हरेली, तीजा, विश्व आदिवासी दिवस और छठ पर्व पर सामान्य अवकाश घोषित किए हैं। छत्तीसगढ़ के प्रमुख त्यौहारों पर अवकाश की घोषणा से उत्साह का वातावरण बना है। उन्होंने कहा कि पोरा तिहार पर प्रदेश में पोषण माह की शुरूआत सुपोषित छत्तीसगढ़ के निर्माण के लक्ष्य के साथ ही गई है। माह सितम्बर पोषण माह के रूप में मनाया जाएगा जिसमें बच्चों में कुपोषण और महिलाओं में कुपोषण और एनीमिया की मुक्ति के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वस्थ और सुपोषित छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए पोषण अभियान को जन आंदोलन बनाना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में सुपोषण अभियान चलाया जाएगा। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि इस योजना से छत्तीसगढ़ में आर्थिक समृद्धि आएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी विकासखण्डों में कृषि आधारित उद्योगों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

Share this: