अब प्रधानमंत्री सम्मान निधि के लाभार्थी किसानों को मिलेगी किसान क्रेडिट कार्ड की निशुल्क सुविधा: ऐसे उठा सकते हैं लाभ

अब प्रधानमंत्री सम्मान निधि के लाभार्थी किसानों को मिलेगी किसान क्रेडिट कार्ड की निशुल्क सुविधा: ऐसे उठा सकते हैं लाभ

Durg

दुर्ग। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पाने वाले सभी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड का लाभ भी मिलेगा। किसानों को खेती-बाड़ी के लिए रियायती दर पर संस्थागत ऋण की सुविधा दिलाने के लिए यह विशेष अभियान शुरू किया गया है। इस अभियान के तहत ऐसे सभी किसान भाई जिनका किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बना है, वे अपने नजदीकी बैंक में जाकर निशुल्क रूप से किसान क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि 3 लाख रुपए तक के केसीसी ऋण के लिए सभी प्रकार के बैंक शुल्क जैसे प्रोसेसिंग, डॉक्यूमेंटेशन, निरीक्षण, लेजर फोलियो शुल्क और दूसरे सेवा शुल्क में छूट दी जाएगी। बैंकों द्वारा केसीसी बनाने के लिए किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाएगा। कलेक्टर श्री अंकित आनंद ने जिले के सभी किसानों से अपील की है कि ज्यादा से ज्यादा किसान इस योजना का लाभ उठाएं और अपने नजदीकी बैंक में जाकर किसान क्रेडिट कार्ड बनवाएं।

दुर्ग जिले में वर्तमान में 1लाख 36 हजार 246 किसान हैं। जिनमें से एक लाख 10 हजार 794 किसानों के पास किसान क्रेडिट कार्ड है। अब तक 77 हजार 48 किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना से जोड़ा जा चुका है। इस प्रकार जिले के 25 हजार 452 किसानों को क्रेडिट कार्ड योजना और 59 हजार 198 किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि से जोडा़ जाना बाकी है।

नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक एम बारा ने बताया कि जिला प्रशासन और नाबार्ड द्वारा चलाए गए संयुक्त अभियान के तहत। सभी पात्र किसानों को केसीसी प्रदान करने के लिए 15 दिन का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभियान का लाभ लघु सीमांत किसानों के अलावा दूसरे किसान भी उठा सकते हैं। केसीसी बनवाने के लिए भूमि रिकॉर्ड की एक प्रति और बोई गई फसलों के विवरण बैंक में जमा करना होगा। दुर्ग जिले में 98 हजार 425 किसानों के खाते सहकारी बैंक में, 5 हजार 182 किसानों के खाते ग्रामीण बैंक में और शेष 7 हजार 187 खाते वाणिज्यिक बैंको में हैं। आईबीए द्वारा सभी बैंकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने बैंक में पीएम सम्मान निधि धारक किसानों की सूची तैयार करें और केसीसी लाभार्थियों की सूची के साथ मैप करें। इसके बाद पीएम सम्मान निधि धारक ऐसे किसानों की सूची तैयार करें जिनके पास केसीसी नहीं है। यह सूची ग्राम पंचायत से साझा करें ताकि वह अपने गांव के लोगों को यह जानकारी दे सके।

Share this: